Header Ads

Thugs of Hindostan | एक बासी कहानी देश प्रेम की | Movie review in hindi

Thugs of Hindostan | एक बासी कहानी देश प्रेम की | Movie review

Thugs of Hindostan | एक बासी कहानी देश प्रेम की | Movie review in hindi 


"मित्रों! आज 8  नवंबर 2018, 500  और 2000  के नोट Thugs Of Hindostan पर बर्बाद करना लीगल नहीं माना जाएगा |  ये फिल्म कानून अमान्य है |"

यही तो बोलना  चाहिए थे मोदी जी को !

Seriously, 8th  November को demontise होता न तो ये पिक्चर रुक जाती और हम बच जाते | तभी तो आज पुराने 500 और 1000 रूपये नोट की बड़ी याद आ रही है | उनके value Thugs Of Hindostan से तो जाएदा ही है |




अब मै  तो बर्दास्त करने गया था तब मुझे पता चला,  YRF films की तरफ से, हम सबको मिल रहा है  दिवाली पर recyled  सोन पापड़ी का डब्बा |  Thats was Thugs Of Hindostan Is!

And my one line review is like " अबे ये चल क्या रहा है ?"

अब इस फिल्म के trailer ने न कुंडली वाला काम किया | देख कर हम समझ गए थे की हर घर में शनि है कुछ जाएदा होने नहीं वाला | And the film actually proved it.

जितना बुरा सोचा, उतनी वाहियात ही है |  बड़े-बड़े Pirate ships, going too and fro in the screen. Without one life jacket to save me.


अब आप ही मुझे बताओ, its a period drama settled in the 18th century. और Katrina kaif का character, वो जैसे costume पहन के नाच रही थी न, देखकर की death हो गयी मेरी |

माना की katrina ने शीला की जवानी की हो , चिकनी चमेली की हो लेकिन 18th century में शॉट्स कौन पहनता था ? पहले तो ये क्लियर करो |

सबसे पहले please apologies, जिन्होंने इस फिल्म को Pirates Of the Caribbean से compare किया | Johnny Depth न, माफ़ नहीं करेगा आप लोगो को | कहाँ वो फिल्म और कहाँ ये !


Now, this film begins with introducing us to a place called रौनकपुर, जो अभी भी आजाद है जहाँ ये बुरे ब्रिटिशर्स राज नहीं कर रहे हैं |

And the first half is all about entriyaan, Grand entry हो रही है | Because makers वो हैं जो खुद से खुस हैं की casting जबरदस्त कर लिया | अमिताभ और आमिर को एक साथ ले आये और क्या चाहिए है ?

चाहिए थी, क्या ?

Script, coherence, आपने तो दी ही नहीं | 


दोनों को इकठे लाना था तो Karan को बोल देते | Cofee with karan में देख लेते, इतने पैसे खर्च करने की क्या जरूरत थी ?

सब पहले Intro  होता है अमिताभ बच्चन के साथ | He has a signature look, जिसे देख कर दिल काफी खुस होता है | We knoew he is a good guy because he talks about आजादी,भरोसा,सपने | Character  का नाम है , ख़ुदा बख्श | खुदा खैर करे ऐसी फिलं न बहुत टाइम से नहीं देखा होगा हमने |


फिर बड़ी मस्त वाली एंट्री होती है No-Spin पहने आमिर खान की | उनके करैक्टर का नाम है , Firangi .

So, he is a very smart character, बहुत चालक और चतुर करैक्टर जो की इधर का उधर बड़ी आसानी से करता हो |


Best तो हुआ है Katrina Kaif के साथ|  Generally, Directors इनको acting की acting करना कहते है | पर यहाँ पे ऐसी कोई formality नहीं थी |

उन्हें बस बोलै गया की एक डांस करो फिर एक और डांस करो और फिर घर जाओ |

Then there is  Fatima Sana Shaikh, fighting की  training आमिर ने खुद ट्रेनिंग में दी | यहां पे न She looks very believable, fear fighter वो भी Bow एंड एरो के साथ | बैक स्टोरी भी है, बदले की आग भी है |


But Fostered dad खुदा बक्श keep saying "तुम्हें हिफ़ाजत की जरूरत है "| And you are like, कहाँ से बेचारी लग रही है?

One keeps wondering, when will Bollywood stop infantilize grown-up women?


Like Amitabh keep saying " मै हिफ़ाजत करूँगा " then he passes the responsibilities to Amir Kahn then  Amir Khan again passes it back to अमिताभ | Passing the parcel वाला गेम चल रहा है | And you are like यार फिर एक्ट्रेसेस रखें ही क्यों हैं?

तो फर्स्ट हाफ बस Intro-Intro और टशन मारने में ही निकल जाता है | सेकंड हाफ में आप भी और फिल्म भी दोनों वेंटीलेटर पे!


माना अमिताभ बच्चन को देख के थोड़ा मन लग जाता है | Amir खान  पसंद है हमे पर यहाँ पे तो कोई सर पैर ही नहीं है |
सेकंड हाफ में फुल फाइट is happening, but this story is not engaging, you don't understand, the female characters are not allowed to grow up. Amir Khan has a change of Heart, बिना indicator दिए |

Basically, डायरेक्टर विजय कृष्ण आचार्य ने last बनाई थी Dhoom-3 और ये उसका सीक्वल है डूम-4 |

Thugs ऑफ़ Hindostan को मैं इन्ही का सोन पापड़ी वाला डब्बा वापस कर रहा हूँ और मैं देता हूँ इन्हे 5 से 1 स्टार |


Thugs Of Hindostan has lived to his name. Thug लिया जी वो भी अच्छे से |

तो मेरे हिसाब से अगर आपके पास बहुत सारा फालतू टाइम एंड pasia  है तो आप ये फिल्म बिलकुल देख सकते हैं |


तो बस अभी के लिए बसा इतना ही | और Comments में thanks बोलना मत भूलना for saving your  time and  money .